चाणक्य नीति | Chanakya Niti Quotes eleventh chapter

 सम्पूर्ण चाणक्य नीति - Complete Chanakya Niti in Hindi 
Chanakya Niti - Chapter 01 Chanakya Niti - Chapter 02
Chanakya Niti - Chapter 03 Chanakya Niti - Chapter 04
Chanakya Niti - Chapter 05 Chanakya Niti - Chapter 06
Chanakya Niti - Chapter 07 Chanakya Niti - Chapter 08
Chanakya Niti - Chapter 09 Chanakya Niti - Chapter 10
Chanakya Niti - Chapter 11 Chanakya Niti - Chapter 12
Chanakya Niti - Chapter 13 Chanakya Niti - Chapter 14
Chanakya Niti - Chapter 15 Chanakya Niti - Chapter 16
Chanakya Niti - Chapter 17 Chanakya Niti PDF


चाणक्य नीति - ग्यारहवां अध्याय | Chanakya Niti Quotes 11th chapter

Chanakya Niti Quotes, Chanakya niti quotes in Hindi, chanakya neeti, Chanakya niti thoughts, Chanakya best success thouughts,

01).

Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes


" ये बाते कोई पा नहीं सकता
 ये मूल में होनी चाहिए ,
उदारता
वचनों में मधुरता
 साहस
आचरण में विवेक "

" Generosity, sweetness in words, courage, prudence in conduct, these things can not be found "


02).


Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes


" जो अपने समाज को छोड़कर 
दुसरे समाज को जा मिलता है
वह उसी राजा की तरह नष्ट हो जाता है
 जो अधर्म के मार्ग पर चलता है "

" The one who leaves his society and goes to the other society, he is destroyed like the same king who walks on the path of unrighteousness "


03).
Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" हाथी का शरीर कितना विशाल है लेकिन
 एक छोटे से अंकुश से नियंत्रित हो जाता है
एक दिया घने अन्धकार का नाश करता है
 क्या अँधेरे से दिया बड़ा है.
एक कड़कती हुई बिजली एक पहाड़ को तोड़ देती है
, क्या बिजली पहाड़ जितनी विशाल है
जी नहीं. बिलकुल नहीं. वही बड़ा है जिसकी शक्ति छा जाती है.
 इससे कोई फरक नहीं पड़ता की आकार कितना है "

" The body of the elephant is so huge but is controlled by a small curb.
A lamp destroys dense darkness, is it larger than darkness.
A crackling lightning breaks a mountain, is electricity as vast as a mountain.
No no at all. He is the only one whose strength is lost. It does not matter what size it is "


04).



Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" जो घर गृहस्थी के काम में लगा रहता है 
वह कभी ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकता
 मॉस खाने वाले के ह्रदय में दया नहीं हो सकती
 लोभी व्यक्ति कभी सत्य भाषण नहीं कर सकता
 और एक शिकारी में कभी शुद्धता नहीं हो सकती "

" A person who is engaged in household work can never get knowledge. There can be no pity in the heart of a moss eater. A greedy person can never speak truth. And a hunter can never have purity "


05).

Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" एक दुष्ट व्यक्ति में कभी पवित्रता उदीत नहीं हो सकती 
उसे चाहे जैसे समझा लो
 नीम का वृक्ष कभी मीठा नहीं हो सकता 
आप चाहे उसकी शिखा से मूल तक
 घी और शक्कर छिड़क दे "

" Purity can never be instilled in a wicked person, as he deems it. Neem tree can never be sweet even if you sprinkle ghee and sugar from its crest to the root "


06).

Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" आप चाहे सौ बार पवित्र जल में स्नान करे

 आप अपने मन का मैल नहीं धो सकते

 उसी प्रकार जिस प्रकार मदिरा का पात्र पवित्र नहीं हो सकता 

चाहे आप उसे गरम करके सारी मदिरा की भाप बना दे "

" Even if you bathe in holy water a hundred times, you cannot wash the dirt of your mind. In the same way as the pot of alcohol cannot be pure even if you heat it, it makes steam of all the liquor "


07).


Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" इसमें कोई आश्चर्य नहीं की

 व्यक्ति उन बातो के प्रति अनुदगार कहता है

 जिसका उसे कोई ज्ञान नहीं

 उसी प्रकार जैसे एक जंगली शिकारी की पत्नी 

हाथी के सर का मणि फेककर

 गूंजे की माला धारण करती है "


" It is no wonder that a person is unresponsive to those things which he has no knowledge of. In the same way as the wife of a wild hunter throws an elephant's head gem and wears a garland of echoes "


08).


Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes


" जो व्यक्ति एक साल तक 
भोजन करते समय भगवान् का ध्यान करेगा 
और मुह से कुछ नहीं बोलेगा 
उसे एक हजार करोड़ वर्ष तक 
स्वर्ग लोक की प्राप्ति होगी "

" A person who will meditate on God while eating for one year and will not speak anything from his mouth, he will get heaven of one thousand crore years "


09).



Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes


" एक विद्यार्थी पूर्ण रूप से निम्न लिखित बातो का त्याग करे,

1). काम 
2). क्रोध 
3). लोभ 
4). स्वादिष्ट भोजन की अपेक्षा.
5). शरीर का शृंगार 
6). अत्याधिक जिज्ञासा 
7). अधिक निद्रा 
8). शरीर निर्वाह के लिए अत्याधिक प्रयास "

" A student should completely discard the following things.
1. Work 2. Anger 3. Greed 4. Expect delicious food. 5. Make up of the body Extreme curiosity. More sleep निद्रा. Excessive effort to maintain body "


10).



Chanakya Niti Quotes
 Chanakya Niti Quotes


" वही सही में ब्राह्मण है जो केवल एक बार के भोजन से संतुष्ट रहे
 जिस पर १६ संस्कार किये गए हो
 जो अपनी पत्नी के साथ महीने में केवल एक दिन समागम करे
 माहवारी समाप्त होने के दुसरे दिन "

" He is truly a Brahmin who is satisfied with only one meal, on which 14 sanskars have been performed, who should meet only one day in a month with his wife. Second day after menstruation ends "


11).



Chanakya Niti Quotes
 Chanakya Niti Quotes


" वह ब्राह्मण जो दुकानदारी में लगा है, असल में वैश्य ही है "

" The Brahmin who is engaged in shopkeeping is actually a Vaishya "


12).

Chanakya Niti Quotes
 Chanakya Niti Quotes


" वह ब्राह्मण जो दुसरो के काम में अड़ंगे डालता है
 जो दम्भी है, स्वार्थी है, धोखेबाज है
 दुसरो से घृणा करता है और बोलते समय 
मुह में मिठास और ह्रदय में क्रूरता रखता है, 
वह एक बिल्ली के समान है "

" The Brahmin who is obstinate in the work of Dusro, who is arrogant, selfish, deceitful, hates Dusro and has sweetness in the mouth and cruelty in the heart while speaking, is like a cat "

13).


Chanakya Niti Quotes
 Chanakya Niti Quotes


" एक ब्राह्मण जो तालाब को
कुए को
 टाके को
बगीचे को 
और मंदिर को नष्ट करता है
 वह म्लेच्छ है  "

" A Brahmin who destroys the pond, the well, the lock, the garden and the temple is mlechcha "


14).

Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes


" वह ब्राह्मण जो भगवान् के मूर्ति की सम्पदा चुराता है 
और वह अध्यात्मिक गुरु जो दुसरे की पत्नी के साथ समागम करता है 
और जो अपना गुजारा करने के लिए 
कुछ भी और सब कुछ खाता है 
वह चांडाल है "

" The Brahmin who steals the wealth of the idol of God and the spiritual master who intercourse with another's wife and who eats anything and everything to make a living is a Chandal "


15).

Chanakya Niti Quotes
Chanakya Niti Quotes

" एक गुणवान व्यक्ति को वह सब कुछ दान में देना चाहिए 

जो उसकी आवश्यकता से अधिक है

 केवल दान के कारण ही कर्ण, बाली और राजा विक्रमादित्य 

आज तक चल रहे है. देखिये उन मधु मख्खियों को जो अपने पैर दुखे से धारती पर पटक रही है

 वो अपने आप से कहती है " आखिर में सब चला ही गया

 हमने हमारे शहद को जो बचा कर रखा था,

ना ही दान दिया और ना ही खुद खाया.

अभी एक पल में ही कोई हमसे सब छीन कर चला गया "



" A gifted person should donate everything that is more than what he needs. Only due to donations, Karna, Bali and King Vikramaditya continue till today. Look at those honey bees who are banging their feet on the blade. She says to herself "Finally everything is gone. We have neither given nor saved our honey which we had saved. In just a moment someone snatched it away from us "




Previous       Next

Post a Comment

0 Comments